जशपुरान्चल
Wednesday 02 Dec 2020 09:12 AM


Breaking News
गौ मांस तस्कर के शातिर व अन्तिम अपराधी को पुलिस ने किया गिरफ्तार    |    बिजली की बदहाल व्यवस्था को लेकर ग्रामीण महिलाओं ने बिजली कार्यालय का किया घेराव    |    मुंबई के रिहायशी इलाके में क्रैश हुआ एक चार्टर्ड प्लेन, 5 लोगों की मौत    |    कोतबा पुलिस चौकी ने गांजा तत्स्करी कर ओडिसा ले जा रहे कार को पकड़ा ।    |    BIG BREKING: छत्तीसगढ़ के राज्यपाल बलराम जी दास टंडन का दुखद निधन    |    देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी का निधन    |    ब्रेकिंग : भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान में घुस जैश के आतंकी कैंपों को किया ध्वस्त: सूत्र    |    देश सहित राज्य के सभी जिला व क्षेत्रीय अस्पताल अलर्ट पर हैं ,पर इस पंचायत की स्वास्थ्य व्यवस्था की कोई सूद लेने वाला नहीं लटक रहा टाला    |   

पत्थलगांव के कुनकुरी जंगल में विराजी वन देवी मंदिर में हो रही विशेष पूजा* *जंगलों में विराजी माँ करती है हर प्रार्थना पूरी, पढ़िए पूरी खबर


पत्थलगांव के कुनकुरी जंगल में विराजी वन देवी मंदिर में हो रही विशेष पूजा* *जंगलों में विराजी माँ करती है हर प्रार्थना पूरी, पढ़िए पूरी खबर
पत्थलगांव के कुनकुरी जंगल में विराजी वन देवी मंदिर में हो रही विशेष पूजा* *जंगलों में विराजी माँ करती है हर प्रार्थना पूरी, पढ़िए पूरी खबर
25-10-20 10:12:10         sourabh tripathi


पत्थलगांव | भले ही कोरोना के कारण नवरात्रि के उत्सव पर चकाचौन्ध भले ही थोड़ी कम हो लेकिन माता की भक्ति में भक्त देवी मंदिरों एवं ऐतिहासिक स्थलों पर जाकर जगतजननी माँ के दर्शन के साथ माता का आशीर्वाद लेकर जगतजननी से पूरे विश्व मे फैले कोरोना संक्रमण के किये भी प्रार्थना कर रहे हैं ।

इलाके के कई ऐतिहासिक देवी मंदिर -धाम में लोगों की भीड़ उमड़ रही है ऐसा ही देवीस्थल पत्थलगांव से 4 किमी दूर इंजको-कुनकुरी जंगल के बीच बैठी माँ *वन देवी* जहां की धार्मिक मान्यतायें दूर दूर तक फैली है जहां दूर दूर से श्रद्धालुओं का यहां जमावड़ा लग रहा है  जंगलों के बीच बैठी *माँ वन देवी* के दर्शन और पूजन के लिए सभी गांव के ग्रामीण यहां प्रतिदिन विधिविधान से पूजा अर्चना के साथ भजन-कीर्तन भी कर रहे हैं । गौरतलब है कि जंगलों के बीच कई दशकों से बने हुए वन देवी के मंदिर में 12 मास स्थानीय श्रद्धालु पूजा करते हैं लरकीं नवरात्र के समय यहां का माहौल धार्मिक हो जाता है ।

मंदिर की है विशेष मान्यता समिति कर रही विशेष आयोजन :-   

 इस जंगल मे विराजी *माँ वन देवी* के बारे में मान्यता है कि यहां आकर माथा टेकने मात्र से श्रद्धालुओं की मान्यता पुरी हो जाती है जिसका एक विशेष महत्व है जिसके कारण क्षेत्र में मंदिर की खास मान्यता है जिससे अन्य जिलों के लोग भी यहां पहुंचते हैं ।

वहीं समिति के भूषण कुमार ,, देवेंद्र पाल धिरहि,,शुद्रो यादव,,बबलू चौहान सहित आसपास गांव के सरपंच एवं अन्य जनप्रतिनिधियों ने यहां 9 दिनों तक डेरा डाल रखा है  समिति के भूषण कुमार ने बताया कि हर रोज यहां विशेष प्रसाद भंडारे का आयोजन भी किया जा रहा है जिसमें समिति के लोग विशेष रूप से डटे हुए हैं वहीं पूरे मंदिर परिसर को सजाया गया है इसके बाद अब आगे इस स्थल को पर्यटन केंद्र बनाने की मांग भी की जाएगी जिससे पूरा जंगल इलाका भक्तिमय हो गया है | 





ताजा ख़बरें






प्राचार्य राजेन्द्र पाण्डेय बने छत्तीसगढ़ के संगठन सचिव

पत्थलगांव | अखिल विश्व ब्राम्हण हिंदुत्व शक्ति...